दीया – A Warrior of Light

Be a lamp and spread light | दीया बनो, रोशनी रचो


वो ज़मीन से बना है
इसलिए ज़मीन से जुड़ा है
हर किसी का अपना है वो
घर नहीं देखता
हैसियत नहीं देखता
बस जलता जाता है
लुटता जाता है

साथ साथ बिखरती रहती है
अदम्य आभा
और रोशनी

उसकी मद्धिम लौ में
उम्मीद नज़र आती है
बहुत छोटा है वो
उसके बुझ जाने की
तमाम वजहें हैं आसपास

देखो फिर भी
लड़ता जाता है
जीतता जाता है
नन्हे से दीये में जाने कहां से
ये पहाड़ जैसा ऊंचा हौसला आ जाता है


© Siddharth Tripathi  *SidTree |  www.KavioniPad.com, 2016.

* Kavi on iPad = Poet on iPad : It is an Internet Project to forge Arts with Technology and showcase Poetry in Digital millennium

Siddharth Tripathi (SidTree)
1
  1. Sarina

    Siddharth sir ..I realy loveeeeee this poem “Diya- A worrior of Light” sooooo beautifulllll…Awesomeee..! i am feeling so delighted to read it. दिया होता तो बहुत छोटा सा है,मिट्टी का बना लेकिन इसके गुण बहुत बड़े है। सच में आपकी कविता से पता चला ।इतनी गहराई से सोचा ही नही था कभी and I love d way U hve described a little-little things about “diya” Thankyouuuuuu so much Sir..!! Sooo Inspirational..!!

    Like

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: