विजयदशमी पर एक आध्यात्मिक रिसर्च नोट

राम और रावण के बीच दिशा का फ़र्क़ है, मेरी कामना है कि आप सदैव सत्य की दिशा को चुनें। इस दौर में रावण देखने के लिए कहीं बाहर जाने की ज़रूरत नहीं है, रावण आपके आसपास है, हो सकता है आपके मन के अंदर भी कोई रावण, पार्टी कर रहा हो। उसके अट्टहास को सुनिए.. वो कहेगा कि 'पार्टी यूँ ही चालेगी'.. लेकिन आप उसके घमंड का समारोह जब चाहे बंद कर सकते हैं और उसे काम पर लगा सकते हैं, रावण और उसकी प्रवृत्तियां अगर आपकी सेवक बन जाएँ, और उनकी दिशा सकारात्मक हो, तो बहुत उपयोगी साबित हो सकती हैं।

विजयदशमी की शुभकामनाएं

Happy Dussehra to all from SidTree

SidTree
2
  1. Lavannya (@lavannyadhekane)

    Very nice आध्यात्मिक रिसर्च नोट & very True msg.”सत्य की दिशा को चुनने और सत्य की राह पर चलने के लिऐ इंसान को पहले अपने मन के अंदर के रावण का दहन करना चाहिऐ!”रावन अच्छा नही था पर आपकी Painting बहोत Superb है
    ✴✴✴✴✴Work.

    Liked by 1 person

    Reply
  2. Anil Goel

    This is called ‘pravratti’. Today noone thinks about it. Youngsters like you thinking about it gives hope for the future. Shubhkamnayen…

    Liked by 1 person

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: