Jealousy : मन में भी श्मशान होता है

Core Thought : Jealousy is like a cemetery in your mind. This poem is a sketch of basic human tendencies.


कई बार चिठ्ठियां त्वचा में छेद कर देती हैं
और मन के अंदर बहने वाले द्रव बाहर निकलने लगते हैं
वैसे आजकल चिठ्ठियों का नहीं फेसबुक का ज़माना है
लोग चिठ्ठियां काग़ज़ पर नहीं लिखते
कहानियां, संस्मरण, तस्वीरें, चिपचिपी बातें
चमचागीरी, अभिमान की मालिश, यारियां, दुश्वारियां
सब कुछ सोशल नेटवर्क की हवा में लिखा जाता है
और इंसान की ये तमाम तहरीरें
करोड़ों लोगों द्वारा पढ़ी जाती हैं, हर रोज़
अपने अंदर लगे मकड़ी के जाले को साफ करने की
नाकाम कोशिश के साथ
सब किसी दूसरे को देख रहे हैं
किसी और के उत्सव को देखते और पढ़ते हुए
लोगों के अंदर का श्मशान सुलगने लगता है


© Siddharth Tripathi  *SidTree |  www.KavioniPad.com, 2016.

Siddharth Tripathi (SidTree)
1
  1. Atul Shukla

    क्या भाव और त्रस्ना का सैलाब बिखेरा है आपने वाह
    भाई
    जारी रखिए इसी तरह

    Like

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: