Flyover : फ्लाईओवर

Hi, Kavi-Vaar is published, this time it started while I was driving my car & passing through a flyover. Please read and tell me what you feel.

Flyover, a poem by SidTree

This picture is the exact point where this poem originated

फ्लाईओवर पर चढ़ते हुए
हमें लगता है कि बादल बहुत करीब है
और हमारी कार
सड़क पर चलते चलते सीधे बादल में घुस जाएगी
लेकिन सबसे ऊंचे बिंदु पर पहुंचने से पहले ही
बादल और ऊंचा हो जाता है
यही धरती और आकाश का फासला है
यही यथार्थ और स्वप्न का फासला है
और ये फासला पूरा होने से ज़रा सा पहले
ढलान शुरू हो जाती है
और शुरू हो जाता है
अगली चढ़ाई का इंतज़ार


© Siddharth Tripathi  *SidTree |  www.KavioniPad.com, 2016.

SidTree
0

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: