Love Stream 5 : सुनहरी लकीरों का गणित | Mathematics of Light

This poem is based on unseen mathematics of love. I want you to focus on glow of lovers. It’s like *phosphorescence of love ! ~ By the way in science phosphorescence means light emitted by a substance without being burnt

पहाड़ों को जब
सूरज सहलाता है
धूप फिसल पड़ती है
और बनने लगती हैं
सुनहरी लकीरें

हम तुम
धूप के गोल सिक्के
लम्हों से उठाते हैं,
रोशनी के इन टुकड़ों को
चलते फिरते सोखते हैं

तुम्हारी सुबह की तिकोनी धूप
मेरी दोपहर में रोशनी के चतुर्भुज
अापस में मिलकर चमकने लगते हैं
नये नये आकार बनने लगते हैं

हमारे साझे शरीर की परिधि को पार करती
इन लकीरों का विस्तार ही हम दोनों की दुनिया है
ये सुनहरी लकीरों का गणित है
जिसे सिर्फ मैं और तुम समझते हैं


© Siddharth Tripathi  *SidTree |  www.KavioniPad.com, 2016.

SidTree
0

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: