Exchange Offer : पुराना हटाओ, नया लाओ

This is a poem which talks about the constant change happening around us. The core thought is how we exchange old for new in search for perfection. That’s why I named it exchange offer.

जिस तरह जेब में रखा हुआ पेन
हाथ में पकड़ा हुआ फोन

पुराना हो जाता है

मैं भी पुराना हो रहा हूं तमाम लोगों के लिए
आप भी पुराने हो रहे हैं

बहुत से दूसरे लोगों के लिए
धीरे धीरे हम सब एक दूसरे के विकल्प ढूंढ रहे हैं

एक दूसरे को किसी और से बदल रहे हैं
हम एक ही कायनात के टुकड़े

कभी जुड़कर, तो कभी बिछड़कर
एक दूसरे की पहेली सुलझा रहे हैं

ये ज़िंदगी का Jigsaw puzzle है
ये ज़िंदगी का Exchange Offer है


© Siddharth Tripathi and www.KavioniPad.com, 2015

SidTree
2

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: