प्रश्नPoetry 8 – सपने में तैरती सत्य की लाश

Another installment of प्रश्नPoetry (Question Poetry). This one talks about ironical fusion of dream and truth.


कोई सपना अपना सा टूट जाए

तो आज की सच्चाई को आँखे खोलकर डुबो दूँ

एक एक सांस को तरसता वो सच मेरा-तुम्हारा
थोड़ी छटपटाहट के बाद
किसी मुर्दे की तरह सपने की सतह पर तैरने लगेगा
न कोई शुरुआत, न कोई अंत
सपने में घुलने लगेगा सत्य का मृत शरीर
और दोनों बहने लगेंगे एक साथ

क्या सपना कभी सच से आज़ाद हो सकता है ?


© Siddharth Tripathi and www.KavioniPad.com, 2015

Siddharth Tripathi (SidTree)
1

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: